Tuesday, January 11, 2011

आइए आज आपको ले चलें दिल्ली हवाई अड्डे के टर्मिनल 3 के सफ़र पर...

पिछले हफ्ते ठिठुरा देने वाली ठंड में दिल्ली जाना पड़ गया। तीन रातें ठंड के मारे आधी सोती और आधी जागती कटीं। कार्यालय से वापस आने के बाद चुपचाप अपने कमरे में दुबक जाने के आलावा कुछ और करने की इच्छा ही नहीं होती थी। ख़ैर ना कहीं निकल सके और ना मित्रों से बातें हुई पर इस बार की हवाई यात्रा में दिल्ली के विख्यात टर्मिनल तीन को देखने का अवसर मिल गया। इससे पहले भी अपनी एक निजी यात्रा में बड़ी रोमांचक परिस्थियों में इस टर्मिनल से गुजरने का मौका मिला था पर वो किस्सा फिर कभी। आज आपको दिखाते हैं कि क्या खास है दिल्ली हवाई अड्डे के इस नए टर्मिनल में...


टर्मिनल की विशालता और भव्यता को देख कर ये यक़ीन करना मुश्किल होता है कि इसे महज तीन साल में बनाया गया होगा। चौसठ लाख वर्ग फीट में फैले इस टर्मिनल में करीब 78 एयरोब्रिज और 92 स्वचालित वॉकवे हैं यानि अब जहाज से निकल कर बस में सवारी करने की जरूरत नहीं। तो चलिए आज आपको दिखाते हैं इसी टर्मिनल की कुछ झलकियाँ मेरे कैमरे की नज़र से...

ये दृश्य दिखता है जब आप हवाईजहाज से निकल कर दिल्ली एयरपोर्ट में कदम रखते हैं। हाथों की विभिन्न भंगिमाएँ सहज ही मन को मोह लेती हैं..


चमकते फर्श, शीशे की दीवारों के बीच अचानक ही बीच बीच में हरियाली के छोटे छोटे टुकड़े मन को बेहद सुकून देते हैं...


और ये है क्रिसमस और नव वर्ष के लिए की गई विशेष सजावट...

भारत की विविधतापूर्ण सांस्कृतिक विरासत को चित्रकला के जरिए बड़ी खूबसूरती से दर्शाया गया है...

भारत में रहकर ही लीजिए इटली के मजे...

शरीर के हर अंग को ढकने के लिए अगर मँहगे जुगाड़ की तलाश में हों तो यहाँ पधारें..

धूम्रपान कक्ष और प्रार्थना कक्ष अलग अलग। कौतूहलवश मैं प्रार्थना कक्ष में गया तो देखा वहाँ सिर्फ बाइबिल और कुरान पड़ी है। बाहर वालों को प्रार्थना की सहूलियत तो हो गई पर पता नहीं 'गीता' या 'रामचरितमानस' रखने की जरूरत क्यूँ नहीं समझी गई।


एक तल्ले ऊपर चढ़ेंगे तो पहुँचेगे फूड कोर्ट में। सामने का ये गोलाकार टीवी बच्चों को बेहद आकर्षित कर रहा था..

और चलते चलते अगर गला सूख जाए तो उसे तर करने का भी इंतजाम है...

वैसे आपको ज्यादा ना चलना पड़े उसके लिए विशेष ट्रेवेलेटर की व्यवस्था है। यानि एक बार इस पर सवार हो जाइए और अपने निर्धारित गेट पर उतर जाइए।


अब सब मैं ही दिखा दूँगा कि ख़ुद से भी 'EXPLORE' करने की ज़हमत उठाएँगे आप..:)



तो कैसा लगा आपको ये सफ़र बताना ना भूलिएगा...

22 comments:

  1. फिर भी बहुत से मिल जाएंगे जिन्हें इसमें कमियां नज़र आएंगी :)

    ReplyDelete
  2. यकीन नहीं होता ये दिल्ली का हवाई टर्मिनल है जिस से कई बार विदेश यात्राएँ की हैं...अब ये टर्मिनल दुनिया के किसी भी देश जैसा ही हो गया है...देखना पड़ेगा...शुक्रिया हमें घुमाने का..

    नीरज

    ReplyDelete
  3. सुना भर था. आज आपने दिखा दिया. आभार.

    ReplyDelete
  4. Lovely pictures. The last time I was there I just rushed through. I am going to fly again on 26th so lets see if I too get to click some pictures.

    ReplyDelete
  5. अच्छी शानदार फोटो। हम भी घूम लिए।

    ReplyDelete
  6. धर मे रहकर दिल्ली के एयरपोर्ट के मजे ले लिए ----सुन्दर तस्वीरे ---धन्यवाद |

    ReplyDelete
  7. definitely more beautiful than todayz many international airports ,but here announcements are not made even for flights delayed by more than an hour or so is my experience while taking an international flight.

    ReplyDelete
  8. In plain words itz beauty of bricks alone . service is pathetic still or try using land lines there.

    ReplyDelete
  9. Kajal bhai is on the mark. exactly :)

    ReplyDelete
  10. अच्छा विश्लेषण किया है.
    कभी समय निकालकर हमारे ब्लॉग//shiva12877.blogspot.com पर भी अपनी एक दृष्टी डालें .

    ReplyDelete
  11. नमस्कार!
    अच्छी तस्वीरें हैं . हवाई यात्रा का अवसर कभी नहीं मिला. हवाई यात्रा उतनी सस्ती भी नहीं है. किन्तु आपके माध्यम से कुछ अनुभव मिला. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  12. मैंने भी जिक्र किया था मगर आपने बस कमल ही कर दिया !

    ReplyDelete
  13. Is one allowed to takes pictures in India? Generally I have noticed that they stop you for secirity reasons..

    Ya ye aapke mobile phone ka kamaal hai? :)

    ReplyDelete
  14. निशा ऐसा नहीं है। कुछ एयरपोर्ट जैसे पुणे पर इस तरह का प्रतिबंध है। दिल्ली में सुरक्षा करमचारियों से पूछा था उन्होंने कहा शौक से लो। और हाँ मेरे मोबाइल में कैमरा नहीं है :)

    ReplyDelete
  15. ठंड तो यहां भी काफी है....अच्छी रही दृश्यों के माध्यम से सैर....आपने ठीक से ढूंढा था न..गीता और रामायण को... अगर ऐसा है तो ठीक तो नहीं कहा जा सकता....

    ReplyDelete
  16. मगर यह नहीं बताया आपने कि दो घंटे पहले न पहुंचे तो दूरियां तय करते-करते कहीं फ्लाईट ही न छुट जाये. :-)
    विकसित भारत की झलक है ये, मगर कुछ पर्यावरणविद इसकी आलोचना भी कर रहे हैं.

    ReplyDelete
  17. एक जगह की तस्वीर लेनी आप भूल गए। मुझे वह बहुत पसंद है। डोमेस्टिक टर्मिनल में कुछ ऐसी कुर्सियाँ भी है, जहां आप बैठे बैठे भी सो सकते हैं। यह चेक इन काउंटर के बाद रेस्तरां के बाद है। लंबे सफर के बाद पाँव पसारने का सुख निराला है।

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails